Homeदेशशरबती गेहू की खेती और जाने इससे ज्यादा उत्पादन कैसे करे,जाने इसकी...

शरबती गेहू की खेती और जाने इससे ज्यादा उत्पादन कैसे करे,जाने इसकी कीमत और खेती के बारे में।

अधिक कमाई के लिए बुकिंग पर बोएं शरबती गेहूं (306)
गेहूं की खेती रबी सीजन में की जाती है। भारत में गेहूं की खेती के मुख्य राज्य पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश हैं। गेहूं मुख्य खाद्य फसलों में से एक है। शरबती गेहू की खेती और जाने इससे ज्यादा उत्पादन कैसे करे,जाने इसकी कीमत और खेती के बारे में। लगभग 97 प्रतिशत गेहूँ क्षेत्र सिंचित है। भारत में लगभग हर क्षेत्र में गेहूँ की सामान्य किस्मों की खेती की जाती है। लेकिन आज हम जिस गेहूं की किस्म के बारे में बात करने जा रहे हैं वह गेहूं की सबसे प्रीमियम किस्म है। गेहूं की इस प्रीमियम किस्म को शरबती (306) के नाम से जाना जाता है। शरबती गेहूं गेहूं की एक क्षेत्रीय किस्म है, जो अशोकनगर और मध्य प्रदेश के कुछ अन्य जिलों में उगाए गए गेहूं से प्राप्त होती है। इसे एमपी गेहूं के नाम से भी जाना जाता है। शरबती गेहूँ की विशेषता यह है कि चमक के साथ-साथ इसके दाने एक समान होते हैं। यह गेहूं की सभी किस्मों में सबसे महंगा बिका है। लोकमन, मालवा शक्ति सहित अन्य प्रकार का गेहूं जहां 2000 से 2500 रुपये प्रति क्विंटल बिक रहा है, वहीं शरबती का न्यूनतम भाव 2800 रुपये है। यह आमतौर पर 3500 से 4500 रुपये तक बिकता है। गेहूं की अन्य किस्मों से दोगुने दाम पर बिकने वाला शरबती गेहूं देश में कम पैदा होता है। यह गेहूं ज्यादातर एडवांस बुकिंग में बोया जाता है। इससे किसान को इसकी कीमत 4000 रुपये से लेकर 5000 रुपये तक मिल रही है। शरबती गेहूं की उत्पादन क्षमता अन्य गेहूं की तुलना में कम है। तो आज ट्रैक्टर जंक्शन की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको शरबती गेहूं की पहचान, विशेषता, उत्पादन, कीमत और खेती के बारे में बताने जा रहे हैं। की जानकारी देता है।

शरबती गेहूं की पहचान
शरबती गेहूं देश में उपलब्ध गेहूं की सबसे प्रीमियम किस्म है। सीहोर क्षेत्र में शरबती गेहूं का उत्पादन बहुतायत में होता है। सीहोर क्षेत्र में काली और जलोढ़ उपजाऊ मिट्टी है जो शरबती गेहूं के उत्पादन के लिए उपयुक्त है। शरबती गेहूं को इसके सुनहरे रंग के कारण गोल्डन ग्रेन के नाम से भी जाना जाता है। शरबती गेहूँ गोल और पूर्ण चमकदार होता है। यह चमक रासायनिक पोटाश गुणों के कारण होती है और यह हथेली पर भारी लगती है और इसका स्वाद मीठा होता है, इसलिए इसका नाम शरबती पड़ा। जैसा कि नाम से पता चलता है, शरबती गेहूं स्वाद में थोड़ा मीठा होता है, शायद अन्य गेहूं की किस्मों की तुलना में सरल शर्करा जैसे ग्लूकोज और सुक्रोज की उच्च सांद्रता के कारण।

सीहोर का शरबती गेहूं सात राज्यों में जाता है
शरबती गेहूं सीहोर के साथ-साथ नरसिंहपुर, होशंगाबाद, हरदा, अशोकनगर, भोपाल और मालवा अंचल में बोया जाता है। सीहोर जिले में शरबती गेहूं की खेती 40390 हेक्टेयर क्षेत्र में होती है। सीहोर जिला मुख्य रूप से शरबती गेहूं के उत्पादन के लिए जाना जाता है। सीहोर का शरबती गेहूं देश के सात राज्यों तमिलनाडु, गुजरात, चेन्नई, मुंबई, हैदराबाद, दिल्ली और हिमाचल प्रदेश से कई कंपनियां सीजन में सीहोर आती हैं और खुद शरबती गेहूं खरीदती हैं।

शरबती गेहूं की विशेषता
शरबती गेहूँ गोल और पूर्ण चमकदार होता है। यह चमक रासायनिक पोटाश गुण के कारण होती है। यह गेहूं सामान्य गेहूं से अधिक मीठा और स्वादिष्ट होता है।
सी-306 गेहूं का दाना दृढ़ और भारी होता है, जो पोटाश की उच्च मात्रा के कारण होता है। जिससे इसके दाने हथेली में रखने पर भारी लगते हैं।
सी-306 (शरबती) गेहूं में ग्लूकोज शुगर, सुक्रोज अधिक मात्रा में पाया जाता है। इसलिए बनी हुई रोटियां नर्म और ताजी रहती हैं.
शरबती गेहूं पर रासायनिक दवाओं का बुरा प्रभाव पड़ता है और उत्पादन भी बहुत कम होता है। इस कारण इसकी खेती प्राकृतिक रूप से की जाती है।
इसकी खेती में किसी भी प्रकार के कीटनाशक रसायन यूरिया डीएपी का प्रयोग नहीं किया जाता है।
शरबती गेहूं का दाना 99 प्रतिशत सूखा होता है क्योंकि इसकी खेती ज्यादातर असिंचित क्षेत्रों में की जाती है।
शरबती गेहूं का दाना दिखने में बिल्कुल गोल और सुनहरे सफेद रंग का होता है।
बाजार में मिलने वाला महंगा चक्की का आटा ज्यादातर शरबती गेहूं से बना होता है।
शरबती गेहूं के भाव
शरबती गेहूं गेहूं की एक प्रकार की प्राकृतिक किस्म है। यह गेहूं की सामान्य किस्मों की तुलना में किसी भी प्रकार के कीटनाशक, रसायन, यूरिया, डीएपी रासायनिक दवाओं को सहन नहीं करता है। इसका उत्पादन भी सामान्य गेहूं से कम होता है। बाजार की मांग और एडवांस बुकिंग के हिसाब से किसान इसकी खेती करते हैं। जिस कारण शरबती गेहूं अन्य सामान्य किस्मों की तुलना में 4000 से 5000 रुपये न्यूनतम भाव पर बिकता है। मंडी में शरबती गेहूं का न्यूनतम भाव 2800 रुपये से लेकर 3500 रुपये तक है। शरबती गेहूं की आवक कम होने से बाजार में इसकी कीमत अधिक बनी हुई है और इसके भाव में और तेजी देखने को मिल सकती है. मंडी में इस गेहूं की आवक इसलिए कम है क्योंकि किसान इसकी एडवांस बुकिंग कर मंडियों के बाहर अच्छे दामों पर इसकी खेती कर बेचते हैं. कम उत्पादन क्षमता और एडवांस बुकिंग की खेती के लिए बोया गया शरबती गेहूं किसानों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है और बाजारों में इसकी अधिक मांग के कारण यह बाजार में छाया हुआ है।

शरबती गेहू

शरबती गेहूं उत्पादन, शरबती गेहूं उत्तम किस्म
गेहूं की अन्य किस्मों की तुलना में शरबती में ग्लूकोज और सुक्रोज जैसी सरल शर्करा की मात्रा अधिक होती है। मध्य प्रदेश में सीहोर जिले के अलावा विदिशा, होशंगाबाद, नरसिंहपुर, हरदा,

RELATED ARTICLES

Most Popular