spot_img
HometrendingPehli Baarish ka asar : पहली बारिश से भीगा बैतूल, खोले गए...

Pehli Baarish ka asar : पहली बारिश से भीगा बैतूल, खोले गए डैम के गेट, घरों में भी घुसा पानी   

बैतूल{Pehli Baarish ka asar} – झमाझम बारिश की लंबे समय से राह तक रहे जिलेवासियों को कल रात उस समय बड़ी रात मिली जब आसमान से तेज गरज और चमक के साथ झमाझम बारिश का दौर शुरू हुआ। यह बारिश का दौर सारी रात चलते रहा। इससे जहां सतपुड़ा जलाशय के गेट खोल दिए गए वहीं माचना नदी में भी बाढ़ गई थी। बारिश से निचले इलाके में रहने वाले लोगों के घरों में पानी भराने की भी खबर है।

स्टेट हाईवे बना मुसीबत

बैतूल से छिंदवाड़ा स्टेट हाइवे बनने के बाद सड़क किनारे से पानी निकासी की कोई भी सुचारू रूप से व्यवस्था नहीं की गई है।जिसका खामियाजा आम लोगो को भुगतना पड़ता है। विभागीय अधिकारियों को सूचना देने पर भी कोई कार्यवाही नही हुई। स्थिति यह हो गई थी कि घुटने-घुटने पानी भरा गया था। विभाग द्वारा पानी की निकासी के कोई पुख्ता इंतजाम नहीं किए जाने से लोगों को समस्या से दो-चार होना पड़ा। रोड के किनारे बने मुकेश पटेल के मकान में पहली ही बारिश में घुटनों तक पानी भरा गया।

सतपुड़ा डेम के 7 गेट 1-1 फीट खोले

जिले के सतपुड़ा डेम के भी झमाझम बारिश के चलते सात गेट एक-एक फीट तक खोल दिए गए थे। गेट खोलने से प्रति सेकंड तवा नदी में 5 हजार 860 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। डेम का लेवल फिलहाल 1429.50 फीट है। जबकि डैम की जल भरण क्षमता 1433 है। यह लेवल 15 सितंबर को मेंटेन किया जाता है। गेट खोलने के दौरान मध्यप्रदेश पावर जनरेटिंग कंपनी सारणी के मुख्य अभियंता आरके गुप्ता और अतिरिक्त मुख्य अभियंता सिविल शैलेंद्र वागद्रे भी डेम पर पहुंचे और उन्होंने आवश्यक निर्देश दिए।

चोपना मार्ग रहा बंद

गौरतलब है कि सतपुड़ा जलाते लगभग 3000 एकड़ क्षेत्रफल में फैला है। ग्रीष्म काल में डैम का लेवल घटकर 1428.65 फीट पर आ पहुँचा था। 15 जून से पहाड़ी क्षेत्रों में रुक-रुक कर हो रही बारिश से डैम का लेवल बढ़कर 1429.50 फीट पहुंच गया। इसके बाद ही गेट खोलने का सिलसिला शुरू कर दिया है। सुबह 10 बजे 5 गेट 1-1 फीट पर खोले गए। इसके बाद भी बाढ़ का पानी डेम में लगातार आते रहने पर गेटों की संख्या बढाकर 7 कर दी गई। सतपुड़ा डैम के गेट खुलने से चोपना मार्ग बंद रहा।

माचना में आई बाढ़

जिले में जारी झमाझम बारिश के चलते शहर की जीवनरेखा कही जाने वाली माचना नदी में भी बाढ़ आ गई। माचना नदी में बाढ़ आने से नदी की गंदगी एक ही झटके में बह गई। इधर शहर सहित जिलेवासी लंबे समय से झमाझम बारिश का इंतजार कर रहे थे। बीती रात्रि से जारी बारिश का सिलसिला गुरूवार 12 बजे तक चलते रहा। अच्छी बारिश होने से जिले के किसानों के चेहरे भी खुशी से खिल गए हैं।

कहां कितनी बारिश

बैतूल में 13 घंटे के दौरान विशेषकर बैतूल ब्लाक में करीब ढाई इंच बारिश हुई है। इसी तरह से जिले में हुई बारिश का आंकड़ा इस प्रकार है। बैतूल 63.2, घोड़ाडोंगरी 6.0, चिचोली, 00, शाहपुर 27.0, मुलताई 24.6, प्रभात पट्टन 11.4, आमला 9.0, भैंसदेही 6.0, आठनेर 4.0, भीमपुर00 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। जिले की औसत वर्षा 15.1 मिमी. है।

RELATED ARTICLES

Most Popular