MP Politics – मध्यप्रदेश में कांग्रेस का सूपड़ा साफडीडी उइके की जीत तय, कमलनाथ ने स्वीकारी हार

बैतूल। मध्यप्रदेश की सभी 29 लोकसभा सीटों का रूझान सामने आया है और लगभग सभी सीटों पर भाजपा प्रत्याशी 1 लाख से अधिक मतों से कांग्रेस प्रत्याशियों से आगे चल रहे हैं। देश में भी लगभग 300 सीटों पर भाजपा और उनके सहयोगी दल आगे चल रही है। वहीं कांग्रेस और उनके सहयोगी दलों ने भी अच्छी स्थिति बनाई है। लेकिन तीसरी बार एनडीए गठबंधन की सरकार बनने के आसार ज्यादा है।

बैतूल लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी डीडी उइके अपनी पिछली जीत 3 लाख 62 हजार का रिकार्ड तोड़ने की स्थिति में आ गए हैं। वहीं छिंदवाड़ा में अपने पुत्र नकुल नाथ के भाजपा प्रत्याशी बंटी विवेक साहू से 1 लाख से अधिक वोटों से पिछड़ने के बाद कमलनाथ ने हार स्वीकार कर ली है। इसी तरह से पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह भी राजगढ़ सीट से पीछे चल रहे हैं।

भाजपा के सभी दिग्गज जीत की ओर

मध्यप्रदेश में सभी 29 सीटों पर भाजपा जीतने की स्थिति में आ गई है। और पार्टी के सभी दिग्गज भी अच्छे अंतर से चुनाव जीत रहे हैं। इनमें समाचार लिखे जाने तक विदिशा से शिवराज सिंह चौहान 6 लाख वोटों से, इंदौर से शंकर लालवानी 10 लाख वोटों से, गुना से ज्योतिरादित्य सिंधिया से साढ़े 4 लाख वोटों से, छिंदवाड़ा से बंटी साहू सवा लाख मतों से, राजगढ़ से रोडमल नागर 65 हजार वोटों से, भोपाल से आलोक शर्मा 1 लाख 85 हजार वोटों से, जबलपुर से आशीष दुबे पौने 3 लाख वोटों से, खजुराहो से वीडी शर्मा 4 लाख 40 हजार वोटों से लीड बनाए हुए हैं। प्रदेश की अन्य सीटों पर भी भाजपा उम्मीदवार 30 हजार से डेढ़ लाख मतों के अंतर से आगे चल रहे हैं।

देश की सबसे बड़ी जीत एमपी के नाम | MP Politics

समाचार लिखे जाने तक देश में सर्वाधिक मतों से जीतने का नया रिकार्ड मध्यप्रदेश के इंदौर लोकसभा सीट के नाम दर्ज हो सकता है। भाजपा प्रत्याशी शंकर लालवानी अब तक की सबसे बड़ी जीत दर्ज करने वाले हैं। वे अभी तक 10 लाख 19 हजार वोटों के बड़े अंतर से आगे हैं। इससे पहले देश की सबसे जीत गुजरात के नाम दर्ज थी। यहां नवसारी सीट से भाजपा के सीआर पाटिल 2019 में 6 लाख 90 हजार वोटों से जीते थे।

रूझानों के बाद सेंसेक्स टूटा

लोकसभा चुनाव के नतीजों के रुझानों से आज यानी, 4 जून को सेंसेक्स करीब 4000 अंकों की गिरावट के साथ 72,000 से नीचे कारोबार कर रहा है। वहीं, निफ्टी में भी करीब 1300 अंकों की गिरावट है, ये 21,990 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। 23 मार्च 2020 के बाद ये बाजार की सबसे बड़ी गिरावट है। तब कोरोना के कारण बाजार 13.15 प्रतिशत टूटा था। 22 मार्च को सेंसेक्स 29,915 के स्तर पर था जो 23 मार्च को 3934 अंक गिरकर 25,981 के स्तर पर आ गया था।निवेशकों के 38 लाख करोड़ रुपए डूबेभारतीय शेयर बाजार में तेज बिकवाली के कारण निवेशकों को भारी नुकसान हुआ, जिससे मंगलवार, 4 जून को इंट्राडे कारोबार में उनकी वेल्थ लगभग 38 लाख करोड़ कम हो गई। बीएसई पर लिस्टेड कंपनियों का ओवरऑल मार्केट कैप मंगलवार दोपहर 12:15 बजे के आसपास 388 लाख करोड़ हो गया। एक दिन पहले यह लगभग 426 लाख करोड़ था।

आंध्रा और उड़ीसा में भी एनडीए की सरकार

दक्षिण के दो राज्यों आंध्रा और उड़ीसा में भी आज ही विधानसभा के लिए मतगणना शुरू हुई थी। उड़ीसा राज्य में पहली बार भाजपा सरकार बनाने जा रही है। वहीं आंध्र प्रदेश में टीडीपी के साथ भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिलता दिख रहा है। गौरतलब है कि पिछले 24 साल से उड़ीसा में बीजेडी की सरकार थी और नवीन पटनायक देश में लंबे समय तक मुख्यमंत्री बने रहने का रिकार्ड बना चुके हैं।

1 thought on “MP Politics – मध्यप्रदेश में कांग्रेस का सूपड़ा साफडीडी उइके की जीत तय, कमलनाथ ने स्वीकारी हार”

Comments are closed.