MP Cabinet Meeting – सीएम मोहन यादव कैबिनेट की पहली बैठक में लिए गए अहम फैसले 

मांस-अंडे की दुकानों पर सख्ती

MP Cabinet Meetingमुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद, सीएम डॉ. मोहन यादव ने कैबिनेट की पहली बैठक की, जिसमें कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। प्रत्येक जिले में प्रधानमंत्री एक्सीलेंस कॉलेज की स्थापना करने का निर्णय लिया गया है। सख्ती से नियमों का पालन करने के लिए, खुले संचालित मांस या अंडे की दुकानों पर विशेष ध्यान देने का निर्णय लिया गया है। इसके अलावा, लाउड स्पीकर और डीजे के इस्तेमाल को लेकर भी महत्वपूर्ण आदेश जारी किए गए हैं।

बैठक में लिए गए अहम फैसले | MP Cabinet Meeting

  • तय मापदंड के अनुसार ही लाउड स्पीकर/डीजे का इस्तेमाल किया जा सकेगा।
  • खुले में मांस या अंडे की दुकान पर सख्ती होगी। नियमों के तहत किया जा सकेगा व्यवसाय।
  • हर जिले में प्रधानमंत्री एक्सीलेंस कॉलेज खोले जाएंगे। जहां नई शिक्षा नीति के तहत सभी प्रकार के कोर्स की पढ़ाई हो सकेगी।
  • स्टूडेंट्स की डिग्री और मार्कशीट के लिए डिजी लॉकर की व्यवस्था की जाएगी। दस्तावेज का एक सुरक्षित डाटा बनेगा। सभी कॉलेज-यूनिवर्सिटी इसे चेक कर सकेंगी। सभी 52 निजी और 16 सरकारी यूनिवर्सिटी में ये लागू होगा।
  • आदतन अपराधियों पर होगी सख्ती। दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। अगर ऐसे अपराधी जमानत पर बाहर आएंगे तो उनकी जमानत निरस्त की जाएगी।
  • तेंदूपत्ता बोनस प्रति बोरा 3 हजार रुपए से 4 हजार रुपए करने का निर्णय लिया गया है।

कैबिनेट बैठक में लाउड स्पीकर और डीजे के उपयोग पर चर्चा हुई, और इस पर गृह विभाग ने एक आदेश जारी किया है। आदेश के अनुसार, किसी भी धार्मिक स्थल या अन्य स्थानों पर लाउड स्पीकर और डीजे का उपयोग तयित मापदंडों के अनुसार होगा।

तेज आवाज में लाउड स्पीकर का इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा, जो स्थानीय मानकों के अनुसार होने चाहिए। इस पर शिकायत आने पर उड़ानदस्ता जांच करेगा और जिला स्तर पर एक तीन सदस्यीय उड़ानदस्ता समिति गठित की जाएगी। इस समिति की जिम्मेदारी शिकायत की जांच को तीन दिनों में पूरा करने की होगी।

धार्मिक स्थलों को इस आदेश के अनुसार सूचीबद्ध किया जाएगा, जहां अत्यधिक आवाज में लाउड स्पीकर, ध्वनि विस्तारक यंत्र, और डीजे का उपयोग हो रहा है। इस सूची की रिपोर्ट 31 दिसंबर 2023 तक प्रस्तुत की जाएगी और जिला स्तर पर हर हफ्ते साप्ताहिक समीक्षा बैठक होगी। आदेश के अनुसार, इस प्रकार के मामलों में धर्म गुरुओं के साथ सहयोग और समन्वय के माध्यम से लाउड स्पीकर को हटाने का प्रयास किया जाएगा।

Source Internet