spot_img
HomeबैतूलJugaad : गर्मी से बचने थ्रेसर को ट्रैक्टर से जोडक़र बनाया पंखा

Jugaad : गर्मी से बचने थ्रेसर को ट्रैक्टर से जोडक़र बनाया पंखा

बिजली कटौती से हलाकान हुए ग्रामीणों ने इजात की तकनीक

मुलताई(सांध्य दैनिक खबरवाणी) – अक्सर कहा जाता है कि आवश्यकता ही अविष्कार की जननी होती है। ग्रामीण अंचलों में हो रही बेहताशा बिजली कटौती से परेशान ग्रामीणों ने थ्रेसर और ट्रैक्टर को जोडक़र पंखा कूलर बना लिया है।

ट्रैक्टर से थ्रेसर घुमाई जा रही है और थ्रेसर में अनाज की जगह पानी डाला जा रहा है जो ठण्डी हवा दे रहा है। इस तकनीक से कटौती के बावजूद भी निर्विघ्र शादी समारोह निपट रहे हैं।

कटौती से परेशान हैं ग्रामीण

ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार हो रही बिजली कटौती के बाद अब शादी समारोह में मेहमानों को गर्मी से बचाने के लिए लोगों ने अजीब तरीका इजाद किया है। खबरवाणी को मिली जानकारी के अनुसार ग्रामीणों द्वारा दावन करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली थ्रेसर को ट्रैक्टर के साथ अटैच कर पंखे के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है। थ्रेसर में अनाज की जगह पानी डाला जा रहा है एवं इससे पंखा चला कर लोगों को हवा दी जा रही है।

कार्यक्रम में हो रही थी समस्याप

लोगों का कहना है कि क्षेत्र में बिजली कटौती से गर्मी में लोग हैरान परेशान हैं,शादियों में बड़ी संख्या में लोग आते हैं। वही दिन के समय में शादी समारोह का आयोजन होता है। ऐसे में भीषण गर्मी से पंडाल में बैठ पाना मुश्किल हो जाता है। इसलिए इससे हवा पंडाल तक पहुंचाई जा रही है। मुलताई के आशु देशमुख,दिनेश पांडे ने खबरवाणी को बताया कि उनका विवाह दिन में था और ग्रामीण क्षेत्र में था। ऐसे में वहा गर्मी से बचने के लिए इसका प्रयोग किया गया था।जो मेहमानों को भी पसन्द आया और इससे लोगो को गर्मी से नही निजात मिल गई।

10 लीटर डीजल में हो जाता है काम

ट्रेक्टर के साथ थ्रेसर अटैच कर चलाई जाती है। तीन घण्टे थ्रेसर चलाने के लिए लगभग 10 लीटर डीजल लगता है और इससे हवा भी बहुत अच्छी और ठंडी आती है।

RELATED ARTICLES

Most Popular