Homeउत्तरप्रदेशIndian Cracking Mountain News : दरार, दरकते पहाड़ जोशी मठ से उठ...

Indian Cracking Mountain News : दरार, दरकते पहाड़ जोशी मठ से उठ रही दरारें, सरकार अपने माथे पर चिंता की लकीर क्यों नहीं खींच रही?

Indian Cracking Mountain News :

दरार, दरकते पहाड़ जोशी मठ से उठ रही दरारें, सरकार अपने माथे पर चिंता की लकीर क्यों नहीं खींच रही?

जोशी मठ। उत्तराखंड का पवित्र शहर जहां सर्दी के मौसम में भगवान बद्रीनाथ रहते हैं। जोशी मठ इस बात का जीता-जागता उदाहरण है कि कैसे विकास या अंध विकास पौराणिक कथाओं, विरासत और संस्कृति के विनाश की ओर ले जाता है। वर्षों से स्थानीय लोग, कुछ विशेषज्ञ और पर्यावरणविद् सरकार के लिए गुहार लगा रहे हैं, लेकिन उनके कानों तक कोई आवाज नहीं पहुंची है.

बांधों और सुरंगों की क्रूर बाहों में उत्तराखंड के कई शहर डूब चुके हैं. जोशी मठ के साथ इंजीनियरों ने हद कर दी है। जोशी मठ के ठीक नीचे एक सुरंग खोदी गई थी। इसे तपोवन बांध सुरंग कह सकते हैं। जिस पहाड़ पर यह शहर स्थित है वह उतर रहा है। कई घर ढह गए। कई में दरारें पड़ गई हैं। सड़क के बीच में बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं।

https://twitter.com/LeftistPahadi/status/1611285014867771395/photo/1

सड़कों पर लंबी-लंबी दरारें नजर आईं। इन दरारों से मलबा जमा हो जाता है। दरअसल तपोवन बांध सुरंग जोशीमठ के नीचे से गुजरने वाली हेलंग घाटी में अलकनंदा नदी में गिरती है, लेकिन पिछले साल जब ऋषि गंगा में बाढ़ आई तो बड़ी मात्रा में मलबा इस सुरंग में घुस गया। इस वजह से अलकनंदा में यह सुरंग जहां खुलती थी, वहीं से इसका मुंह बंद हो जाता था।

गंदगी या पानी नहीं निकल पा रहा है। कुछ वैज्ञानिकों का कहना है कि इससे सुरंग में गैस बनेगी और मलबा अंदर फेंका जाएगा, जिससे जोशी मठ में दरार आ जाएगी। लोग इधर-उधर बस जाते हैं। कई लोग अपने पूर्वजों के बनाए घरों को छोड़कर किराए के कमरों में रहने को विवश हैं। उनके आंगनों में दरारें आ गईं। उनकी रसोई से चीखें सुनाई देती हैं। उनका चूल्हा दुख से जलता है।

सरकार और प्रशासन की स्थिति ऐसी है कि जब भी कोई बड़ी दरार या कोई बड़ा गड्ढा होता है, तो कुछ अधिकारी वहां जाते हैं। वह भीड़ को इकट्ठा करता है और अपना कर्तव्य पूरा करता है। बाद में यहां लोगों को अपने हाल पर छोड़ दिया जाता है।

वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर ऐसा ही चलता रहा या जल्द ही कोई उचित कार्रवाई नहीं की गई तो जोशी मठ जैसी पौराणिक नगरी नष्ट हो जाएगी। लोग भले ही इधर-उधर बस गए हों, लेकिन हम पौराणिक कथाओं से हाथ धो बैठते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि जोशीमठ वास्तव में एक मोराइन के ऊपर स्थित है। हिमोढ़ वास्तव में हिमनद का ऊपरी भाग होता है।

इसका मतलब यह है कि जब बर्फ पिघलेगी तो ग्लेशियर खिसकेगा, लेकिन उसके ऊपर लाखों टन मिट्टी और चट्टान का ढेर लग जाएगा। यह एक प्रकार का पर्वत बन जाता है। ऐसा एक से अधिक बार होता है। बेशक, वह भी समय के साथ फीका पड़ जाएगा। आने वाली परियोजनाएं, बांध इस समय को और कम कर देंगे।

RELATED ARTICLES

Most Popular