HomeदेशDhanteras 2022: धनतेरस की रात इन जगहों पर जलाएं दीपक, धन के...

Dhanteras 2022: धनतेरस की रात इन जगहों पर जलाएं दीपक, धन के देवता कुबेर और मां लक्ष्मी होंगे प्रसन्न

Dhanteras 2022: धनतेरस की रात इन जगहों पर जलाएं दीपक, धन के देवता कुबेर और मां लक्ष्मी होंगे प्रसन्न धनतेरस 2022 धनतेरस का त्योहार 22 और 23 अक्टूबर को मनाया जाता है। हिंदू धर्म में धनतेरस का बहुत महत्व है। माना जाता है कि धनतेरस पर मां लक्ष्मी की पूजा करने से घर में धन, सुख और समृद्धि आती है। इस दिन धन के देवता कुबेर की भी पूजा की जाती है। धनतेरस हर साल कार्तिक मास की त्रयोदशी को मनाया जाता है। धनतेरस से जुड़ी कई किंवदंतियां हैं। माना जाता है कि धनत्रयोदशी के दिन स्वास्थ्य के देवता धन्वंतरि, माता लक्ष्मी और कुबेर के साथ समुद्र के भँवर से निकलते हैं। इसी वजह से धनतेरस मनाया जाता है। धनतेरस के दिन जो भी व्यक्ति किसी स्थान विशेष पर दीपक जलाता है उसे भाग्य और समृद्धि की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं कौन सी हैं ये जगहें।

Dhanteras 2022: धनतेरस की रात इन जगहों पर जलाएं दीपक, धन के देवता कुबेर और मां लक्ष्मी होंगे प्रसन्न
Dhanteras 2022: धनतेरस की रात इन जगहों पर जलाएं दीपक, धन के देवता कुबेर और मां लक्ष्मी होंगे प्रसन्न

Dhanteras 2022

धनतेरस के दिन इन जगहों पर जलाएं दीप


धनतेरस का पर्व सुख-समृद्धि का पर्व माना जाता है। इस दिन पूजा कक्ष में दीपक जलाना बहुत शुभ माना जाता है। इस दिन मंदिर में दीपक जलाने से वास्तु दोष दूर होते हैं और घर में आर्थिक समृद्धि आती है।


धनतेरस की रात श्मशान घाट पर दीपक जलाना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इससे मां लक्ष्मी बहुत प्रसन्न होती हैं और उनकी कृपा से जीवन में धन की वृद्धि होती है।


धनतेरस की रात कुबेर और तुला की पूजा करके पूजा स्थल पर रात भर जलता हुआ अखंड दीपक जलाएं।
ऐसे स्थानों पर घर की तिजोरी, दुकान हॉल, दीपक लगाना चाहिए।

Read More OPPO Smartphone: ओप्पो के नए स्मार्टफोन ने तोडा Redmi Pro का रिकॉर्ड,कम कीमत में 7GB में मिल रहे बेहतरीन फीचर्स


धनतेरस की रात एक कुएं के तिरपाल पर आटे से बने सात दीपक बनाकर उसे जलाने से कुबेर और विष्णु की कृपा प्राप्त होती है।

Dhanteras 2022: धनतेरस की रात इन जगहों पर जलाएं दीपक, धन के देवता कुबेर और मां लक्ष्मी होंगे प्रसन्न


एक पेड़ के नीचे आटे के 11 दीपक बनाएं, उनमें तेल भर दें और वहां बैठकर श्रीसूक्त, विष्णु सहस्रनाम का पाठ करते हुए, विष्णु-लक्ष्मी के साथ-साथ कुबेर की कृपा भी प्राप्त होती है।
तुलसी, शमी, बरगद-नीम-पीपल की त्रिवेणी में दीपक जलाएं।

RELATED ARTICLES

Most Popular