Saturday, August 13, 2022
spot_img
HomeबैतूलDeath : बाघिन के 15 - 20 दिन के शावक की मौत,...

Death : बाघिन के 15 – 20 दिन के शावक की मौत, राठिपुर के जंगल मे मिला शव

पिछले डेढ़ साल से बैतूल के जंगल में विचरण कर रही बाघिन के बच्चे की मौत हो गई है। उसका शव बैतूल वन परिक्षेत्र के राठीपुर इलाके में मिला है। जिसके बाद वन विभाग ने नेशनल टाइगर अथॉरिटी और चिकित्सकों के दल के साथ मृत शावक की अंत्येष्टि कर दी है। वहीं पिछले 4 दिन से गायब बाघिन की भी लोकेशन मिल गई है।

सतपुड़ा टाइगर रिजर्व से पिछले एक- डेढ़ साल पहले बैतूल रेंज में घूम रही बाघिन की बीते 4 दिन से लोकेशन नहीं मिल रही थी। उसका कॉलर आईडी भी जंगल में गिरा पड़ा मिला था। जिसके बाद वन अमले में हड़कंप मच गया था। सतपुड़ा टाइगर रिजर्व समेत वन विभाग का अमला बाघिन की खोज खबर में जुटा था। इसी बीच उसके 20 दिन के शावक का शव जंगल में मिला है। जिससे हड़कंप मच गया है। हालांकि माना जा रहा है कि शावक की मौत प्राकृतिक रूप से हुई है।

वन विभाग ने नियमों के तहत अधिकारियों की मौजूदगी में शव परीक्षण कर उसकी अंत्येष्टि कर दी है। डीएफओ उत्तर राकेश डामोर ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि कल देर शाम बाघिन के बच्चे का शव मिला था। जिसकी उम्र करीब 15 से 20 दिन रही होगी। इसकी अंत्येष्टि कर दी गई है। बाघिन द्वारा छोड़ दिए जाने के बाद इस शावक ने भूख और मौसम की वजह से दम तोड़ दिया। कई बार बाघिन अपने शावकों को पालने में सक्षम नहीं होती हैं। तब वह बच्चे को छोड़ देती हैं या कभी-कभी वह खुद ही उसे मार देती हैं। वैसे टाइगर रिजर्व के इलाकों में भरपूर आहार श्रृंखला उपलब्ध होती है, लेकिन वह जिस तरह से बैतूल के जंगलों में रह रही थी। यहां वह पालतू जानवरों पर ही निर्भर थी। जिसके लिए उसे कई बार दूर तक जाना पड़ता है। यहां शिकार की कमी की वजह से उसने शायद बच्चे को छोड़ दिया होगा। जो मौसम और भूख की वजह से मौत का शिकार हो गया।

बाघीन की कॉलर आईडी का पट्टा हो गया था 2 साल पुराना

बाघिन की बीते 5 दिनों से लोकेशन नहीं मिल रही थी। उसका कालर आईडी एक ही जगह लोकेशन बता रहा था। जिसके बाद वन विभाग ने सतपुड़ा रिजर्व टाइगर के दल को इसकी खबर दी थी। दल ने जब इसकी जानकारी जुटाई तो पता चला कि कालर आईडी जंगल में कहीं गिर गया था। जिसकी वजह से बाघिन की लोकेशन एक ही जगह मिल रही थी। दल ने कालर आईडी तो ढूंढ लिया है, लेकिन उसकी लोकेशन को लेकर अमला परेशान था। डीएफओ ने बताया कि अब बाघिन की लोकेशन मिल रही है और इसको लेकर कोई संशय नहीं है।उसके कालर आईडी का पट्टा 2 साल पुराना हो गया था। जो जंगल में गिर गया था

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments