Tuesday, August 16, 2022
spot_img
HometrendingBhajpa Ka Ektarfa Prem : मनीष पर झलक रहा भाजपा का एकतरफा...

Bhajpa Ka Ektarfa Prem : मनीष पर झलक रहा भाजपा का एकतरफा प्रेम

तीन पद जेब में होने के बावजूद अध्यक्ष पद की भी लालसा

बैतूल{Bhajpa Ka Ektarfa Prem} – एक तरफ भाजपा अनुशासन वाली पार्टी मानी जाती है और देखा जाता है कि एक व्यक्ति एक पद की विचारधारा भी इस पार्टी में चलती है। जिसके कारण कई बड़े नेता ऐसे हैं जिन्हें अपने पद छोड़ने पड़े हैं। लेकिन भैंसदेही में भाजपा की विचारधारा को धता बताते हुए एक व्यक्ति पर पार्टी जमकर प्रेम बरसा रही है। चर्चा है कि यहां के युवा नेता जिनकी पहचान ठेकेदार के रूप में होती है। इस व्यक्ति को भाजपा ने तीन महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी हैं।

बताया जा रहा है कि संगठन में यह भैंसदेही मंडल अध्यक्ष है। इसके अलावा सांसद दुर्गादास उइके ने इन्हें अपना भैंसदेही का सांसद प्रतिनिधि बनाया है। वन्ही शासकीय महाविद्यालय भैंसदेही की जनभागीदारी समिति में भी सदस्य हैं। इनका नाम मनीष सोलंकी है। इनकी लालसा कम होने का नाम नहीं ले रही है। यही कारण है कि नगर परिषद चुनाव में मनीष सोलंकी वार्ड नं. 18 से भाजपा पार्षद प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़े और जीत गए हैं।

अध्यक्ष बनने की चर्चा भी जोरों पर

जबसे 2014 के आरक्षण की स्थिति में नगर परिषद भैंसदेही के अध्यक्ष का चुनाव होने की बात सामने आई तो समीकरण बनने-बिगड़ने लगे। पहले जहां सामान्य वर्ग की महिला के लिए अध्यक्ष पद था वहीं अब 2014 की स्थिति में यह ओबीसी मुक्त हो गया है। जिससे पुरूष भी अध्यक्ष बनने के दावेदार हो गए हैं। ऐसे में अध्यक्ष के लिए मनीष सोलंकी भी दावेदार बन गए हैं । उनके नाम की चर्चा होते ही भैंसदेही में भाजपा कार्यकर्ताओं में नाराजगी देखने को मिल रही है। नाम ना छापने की शर्त पर एक भाजपा कार्यकर्ता का कहना है कि मनीष सोलंकी के पास पहले से ही चार पद हो गए हैं इसके बाद भी उनकी भूख शांत नहीं हो रही है। और पार्टी भी मेहरबानी दिखा रही है। ऐसे में भाजपा कार्यकर्ताओं का मनोबल टूट रहा है जिससे भाजपा को यहां नुकसान होना तय है

भैंसदेही में विधायक है कांग्रेस का

भैंसदेही विधानसभा क्षेत्र में 2018 के विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने महेंद्र सिंह चौहान और कांग्रेस ने धरमूसिंह सिरसाम को प्रत्याशी बनाया था। यहां भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा था। इसके बावजूद भी भाजपा में भैंसदेही को लेकर गंभीरता नहीं दिख रही है। अगर यही स्थिति रही और एक व्यक्ति को कई पदों से नवाजा जाएगा तो 2023 में भी शायद भाजपा को यहां 2018 का रिजल्ट ही देखने को मिलेगा।

ब्रम्हदेव कुबड़े का भी सामने आया नाम

भैंसदेही क्षेत्र में कुंबी समाज का प्रतिनिधित्व करने वाले ब्रम्हदेव कुबड़े (पटेल) भी भैंसदेही नगर परिषद के वार्ड 9 से भाजपा पार्षद प्रत्याशी का चुनाव जीते हैं। ब्रम्हदेव कुबड़े की पहचान ओबीसी चेहरे के रूप में होती है। अगर 2014 के आरक्षण की स्थिति में भैंसदेही नगर परिषद का अध्यक्ष चुना जाता है तो अध्यक्ष पद के दावेदारों में ब्रम्हदेव कुबड़े भी प्रबल दावेदार हैं। बताया जा रहा है कि भाजपा संगठन भी 2023 के विधानसभा चुनाव को देखते हुए कुंबी समाज के वोटों को साधने के लिए इन पर दांव खेल सकती हैं। वैसे स्थिति साफ है कि भैंसदेही नगर परिषद में भाजपा का ही अध्यक्ष बनेगा क्योंकि 15 से 11 पार्षद भाजपा के पास हैं।और भाजपा का नगर परिषद अध्यक्ष बनना तय है

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments