Airforce Jawan – धनोरा पारसडोह में डूबे 2 एयरफोर्स जवानों के मिले शव

एसडीईआरएफ ने की शव मिलने की पुष्टि, पिकनिक मनाने गए थे जवान

Airforce Jawanआठनेर एयरफोर्स के जवानों का ग्रु्रप पिकनिक मनाने के लिए धनोरा पारसडोह पिकनिक मनाने के लिए शुक्रवार को गया था। इस दौरान दो जवान नहाने के लिए झरने के पास चले गए और गहरे पानी में जाने से डूब गए थे। दोनों जवानों के अचानक लापता होने से हडक़म्प मच गया था।एसडीईआरएफ की टीम ने दोनों जवानों के शव आज शनिवार को खोज लिए हैं।

आठनेर थाना प्रभारी राजन उइके ने बताया कि एयरफोर्स के दो जवानों के पारसडोह में डूबने की सूचना मिलने के बाद एयरफोर्स और पुलिस के आला अधिकारी सहित एसडीईआरएफ की टीम भी मौके पर पहुंची और दोनों जवानों की तलाश प्रारंभ की लेकिन शुक्रवार देर शाम तक टीम को सफलता नहीं मिल पाई थी। आज शनिवार को एक जवान का शव प्रात: 9 बजे और दूसरे का 10 बजे मिल गया है।

थाना प्रभारी श्री उइके ने बताया कि शनिवार को विकास पिता विष्णुदत्त (23) और योगेंद्र धाकड़ उम्र (23)दोनों एयरमेन की पोस्ट पर एयरफोर्स आमला में पदस्थ थे। यह अपने साथ के करीब 8 जवानों के साथ पिकनिक मनाने के लिए धनोरा पारसडोह गए थे। पर्यटन स्थल के रूप में प्रसिद्ध इस स्थल पर खतरनाक पानी का डोह(खोह) है। नहाते समय इसी में चले जाने से दोनों जवानों की मौत हुई है।

होमगार्ड कमांडेंड आईपी उपनारे ने बताया कि दोनों शवों को आमला एयरफोर्स ले जाया गया है। उन्होंने कहा कि एसडीईआरएफ के 6 जवानों ने एयरफोर्स टीम के साथ करीब 9 घंटे तक सर्च आपरेशन चलाया जिसके बाद दोनों जवानों के शव बरामद हो सके हैं।

खतरनाक है धनोरा पारसडोह | Airforce Jawan

धनोरा पारसडोह के विषय में कहा जाता है कि यह एक अत्यंत खतरनाक खोह हैं जिनमें अथाह पानी होने के साथ-साथ यह भी किवदंती है कि इसी खोह में पारस पत्थर भी है। इस खोह के भीतर अलग-अलग आड़ी-तिरछी चट्टानें भी हैं जो कि झरने के नीचे हैं। यहां पर कोई भी नहाते समय इन चट्टानों के बीच फंस जाता है और उसकी मौत हो जाती है। इस स्थान पर अब तक कई लोगों की मौतें हो चुकी हैं।