गाजियाबाद । दिल्ली से सटे गाजियाबाद में जिला प्रशासन ने 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' योजना के तहत अनोखी पहल की है। गाजियाबाद के जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने जिले में बेटियों को प्रोत्साहित करने के लिए "बेटी का नाम, घर की शान" कार्यक्रम शुरू किया है। इस कार्यक्रम के तहत आईएएस, पीसीएस, प्रशासनिक अधिकारियों, जिला प्रशासन कर्मचारियों और आम जनता को, बेटियों के नाम की घरों की नेम प्लेट दी गईं।
जानकरी के मुताबिक, डीएम ने ये अनोखी नेम प्लेट फिलहाल 25 परिवारों की बेटियों को सौंपी है, बेटियों को दी गई नेम प्लेट पर कार्यक्रम का नाम "बेटी का नाम, घर की शान" और घर में मौजूद बेटियों का नाम लिखा है, यह अपने आप में एक अनोखी पहल है जो यह बात समाज में और पुख्ता तरीके से सामने लाएगी कि बेटियां कितनी महत्वपूर्ण हैं। 
जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने बताया कि शुरुआती दौर में तकरीबन दो दर्जन लोगों को नेम प्लेट दी गई है। आगे भी इस कार्यक्रम से अधिक लोगों को जोड़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर और एसडीएम खालिद अंजुम समेत अन्य प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा भी घर के बाहर बेटी के नाम की नेम प्लेट लगाई जाएगी। डीएम की इस अनोखी पहल की चर्चा पूरे जिले में हो रही है।