भोपाल । कोयले की किल्लत के बीच एनसीएल ने मोर्चा संभाल लिया है। इस महीने कंपनी ने कोयला आपूर्ति में 15.57 फीसदी की बढ़ोत्तरी की है। उत्पादन में भी उम्मीद से अधिक कोयला उत्पादन किया गया है।एनसीएल के अधिकारियों की माने तो नवंबर महीने के अंत तक कंपनी ने 15.57 प्रतिशत वृद्धि के साथ कुल 80.46 मिलियन टन कोयला उपभोक्ताओं को भेजा है। साथ ही कोयला उत्पादन में भी विगत वर्ष की समान अवधि की तुलना में 1.94 प्रतिशत की वृद्धि की है। अब तक कंपनी ने 75.11 मिलियन टन कोयला उत्पादन किया है। कंपनी के अधिकारियों ने इस उपलब्धि का श्रेय खनिक कर्मियों को दिया है।

एक दिन में आपूर्ति का तोड़ा रिकॉर्ड
कंपनी ने 24 नवंबर को अपनी स्थापना से अभी तक एक दिन का सबसे अधिक 4.15 लाख टन कोयला आपूर्ति किया था। बीते महीने नवंबर कंपनी ने कोयला आपूर्ति का रिकॉर्ड 4 बार तोड़ा है। 24 नवंबर को ही एनसीएल ने कुल 111 कोयला रेक उपभोक्ताओं को भेजा है। इसमें 42 रेक इंडियन रेलवे की शामिल रही है।

126 एमटी आपूर्ति का है लक्ष्य
एनसीएल को वित्त वर्ष 2021-2022 में 119 मिलियन टन कोयला उत्पादन और 126.5 मिलियन टन कोयला प्रेषण का लक्ष्य दिया गया है। कंपनी ने उत्पादन व प्रेषण में कुल 10 अत्याधुनिक, मशीनीकृत ओपनकास्ट कोयला खदानों से राष्ट्र का लगभग 16 प्रतिशत कोयला उत्पादन करती है। कंपनी ने पिछले वित्त वर्ष में 115 मिलियन टन से अधिक कोयले का उत्पादन किया था।

स्टॉक खत्म करने में लगी है कंपनी
एनसीएल वर्तमान में कोयला का अतिरिक्त भंडार खत्म करने में लगी है। नवंबर महीने की शुरुआत में एनसीएल के पास करीब 5 मिलियन टन अतिरिक्त कोयला भंडारित था। भारतीय रेलवे से सहयोग मिलने पर कंपनी हर रोज अधिक से अधिक कोयला आपूर्ति कर रही है। वर्तमान में भंडारित कोयला का स्टॉक नवंबर की तुलना में आधे से भी कम हो गया है। इस कंपनी की ओर से उत्पादन भी तेजी के साथ जारी है।