अक्षय नवमी को पुण्य फलों की प्राप्ति और स्वास्थ्य की शुभता हेतु अत्यंत महत्वपूर्ण दिन माना जाता है. अपने काम के अनुरुप यह कभी न क्षय होने वाले फल प्रदान करती है. अक्षय नवमी तिथि का संयोग कई मामलों में महत्वपूर्ण होता है. इस दिन को प्रमुख हिंदू पर्वों में से माना गया है जो जीवन में नई चेतना और उसके विकसित होने की संभावनाओं का विकास भी होता है. एक पारंपरिक हिंदू कैलेंडर में 'कार्तिक' के महीने के दौरान 'शुक्ल पक्ष' के 'नवमी तिथि' नवम दिन पर इस पर्व को मनाया जाता है. अक्षय का संबंध तृतीया तिथि के साथ भी जुड़ा है जब इसे अक्षय तृतीया के रुप में जाना जाता है और ये समय वैशाख मास में आता है.
कब और कैसे मिलेगा आपको अपना जीवन साथी ? जानें हमारे एक्सपर्ट्स से बिल्कुल मुफ्त

अक्षय नवमी है आंवला नवमी

अक्षय नवमी को देश के विभिन्न हिस्सों में 'आंवला नवमी' के रूप में भी मनाया जाता है. इस दिन, आमला के पेड़ की पूजा की जाती है क्योंकि इसे सभी देवी-देवताओं का निवास माना जाता है.

देश भर में होती है अक्षय नवमी की धूम

भारतीय राज्य पश्चिम बंगाल में, इस दिन को 'जगधात्री पूजा' के रूप में मनाया जाता है, जिसमें देवी 'जगधात्री' की पूरी भक्ति भाव के साथ पूजा की जाती है. साथ ही अक्षय नवमी के दिन मथुरा-वृंदावन की परिक्रमा बहुत शुभ मानी जाती है. देश के कोने-कोने से हिंदू भक्त इस दिन पर पवित्र धर्म स्थलों एवं नदियों में स्नान एवं दर्शन करने हेतु एकत्र होते हैं.

अक्षय नवमी पूजा अनुष्ठान

अक्षय नवमी के दिन, भक्त सूर्योदय के समय जल्दी उठकर गंगा और अन्य पवित्र नदियों में स्नान करना शुभ माना जाता है. यह स्नान शरीर को मजबूत बनाता है तथा इंद्रियों पर नियंत्रण देता है.
स्नान के बाद, नदी के तट पर पूजा और अनुष्ठान किए जाते हैं. इन अनुष्ठानों द्वारा वातावरण की शुद्धि होती है तथा मानसिक सबलता प्राप्त होती है.
पूजा पर हल्दी का उपयोग करके 30 वर्ग बनाए जाते हैं. इन वर्गों को 'कोष्ठ' के रूप में जाना जाता है और फिर इन्हें दालों, अनाज और खाद्य पदार्थों से भरा होता है.
वैदिक मंत्रों से पूजा की जाती है, नवमी पर यह विशेष अनुष्ठान एक समृद्ध फसल और खाद्यान्न की वृद्धि तथा भंडारण के फलों को दर्शाता है जो जीव की क्षुधा शांति का महत्व देता है.

आंवला नवमी

अक्षय नवमी पर उपवास रखा जाता है. कुछ क्षेत्रों में, लोग इस दिन 'आंवला' के पेड़ की पूजा भी करते हैं. अच्छे स्वास्थ्य के लिए इस दिन आंवला फल खाना चाहिए और कुछ फलों का दान भी करना चाहिए.
दान इस दिन की एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटना है। ऐसा माना जाता है कि अक्षय नवमी के दिन किया गया कोई भी शुभ कार्य कभी नष्ट नहीं होता है। इस दिन गुप्त दान करना भी बहुत महत्व रखता है। किसी भी पात्र व्यक्ति को अपनी आर्थिक स्थिति के अनुसार यथासंभव दान करना चाहिए.

अक्षय नवमी का महत्व

अक्षय नवमी का दिन हिंदुओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण है और देश भर में बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है. अक्षय नवमी पर श्रद्धा और भक्ति के साथ प्रार्थना करना अत्यधिक फलदायी माना जाता है. इस दिन की जाने वाली प्रार्थना सभी इच्छाओं की पूर्ति प्रदान करती है और अंततः व्यक्ति को 'मोक्ष' या मुक्ति के मार्ग पर ले जाती है. इस दिन धर्मार्थ गतिविधियों को करने से व्यक्ति को आने वाले जन्मों के लिए लाभ मिलता है.

कार्तिक पूर्णिमा पर कराएं सामूहिक सत्यनारायण कथा, हवन एवं ब्राह्मण भोज, सभी कष्टों से मिलेगी मुक्ति : 19 नवंबर 2021

मनचाहा जीवनसाथी और सुखी वैवाहिक जीवन के लिए करवाएं वृन्दावन में तुलसी विवाह : 15-नवंबर-2021

कार्तिक पूर्णिमा पर हरिद्वार में कराएं 365 दीपों का महादान एवं ब्राह्मण भोज, होगी दस महायज्ञों के समान पुण्य की प्राप्ति - 19 नवंबर 2021